मौलिक ज्ञान

र्इश्वर के मुख्य नाम कौन कौन से हैं ? और उनके अर्थ क्या है ?

जैसे र्इश्वर के गुण और कर्म अनन्त है, उसी प्रकार उसके बोधक नाम भी अनन्त हैं। प्रत्येक नाम उसके किसी ना किसी गुण को प्रकट करता है। जैसे-

ब्रह्म-सबसे बड़ा।

ब्रह्मा- सब जगत को बनाने वाला।

शिव- कल्याण स्वरूप और कल्याण करने वाला।

विष्णु- चर और अचर सब जगत में व्यापक।

रूद्र- दुष्ट कर्म करने वालों को दण्ड देकर रुलाने वाला।

गणेश, गणपति- सबका स्वामी और पालन करनेवाला।

पिता- सबकी पालना और रक्षा करनेवाला।

देव- विद्वान और विधा आदि देने वाला।

यम- सब प्राणियों को न्याय पूर्वक यथायोग्य कर्मफल देने वाला।

भगवान- ऐश्वर्यवान।

चन्द्र- आनन्द स्वरूप और सबको आनन्द देने वाला।

शक्ति- जगत को बनाने में समर्थ

लक्ष्मी- विद्वान योगियों का लक्ष्य

सरस्वती- विविध विज्ञान, शब्द, अर्थ का ज्ञान यथावत होना

अद्वैत- एक(दो नहीं)

महादेव- देवों का देव

ओ३म् ही र्इश्वर का निज नाम है। र्इश्वर का मुख्य स्वभाव रक्षा करना माना जाता है। इसलिए ओ३म् का अर्थ रक्षक लेना उचित है।