मौलिक ज्ञान

र्इश्वर की उपासना का तरीका व उसका लाभ क्या है ?

र्इश्वर की उपासना का तरीका व उसका लाभ

एकान्त में रुचि कर, वायु के आवागमन से युक्त स्थान में ऐसे आसन में बैठें जिसमें सुख पूर्वक लम्बे समय तक बगैर हिले-डुले बैठा जा सके। रीढ़ की हडडी एवं गर्दन सीधी रखें। दृष्टि सामने रहे, परन्तु आंखें बन्द रखें। उसके बाद संसार की नश्वरताए व परिवर्तन शीलता का ध्यान करे। फिर विचारें कि पिछले दिन यम और नियम (अष्टांग योग के प्रथम दो अंग)  का आपने कहां तक पालन किया। फिर प्राणायाम करें। फिर मन को उदय प्रदेश आदि में लगाकर र्इश्वर के गुणों का चिन्तन करें। मन के भटकने पर पुन: पुन: उसे उदय प्रदेश आदि में लगाकर र्इश्वर के गुणों का चिन्तन करें। कुछ ही दिनों के अभ्यास से मन की भटकन में सुधार प्रतीत हो जाएगा। उपासना से हमारे आत्मिक-बल में अत्याधिक वृद्धि होती है।

ध्यान को ही उपासना कहा जाता है।

सम्बन्धित सामग्री-

ध्यान क्या है ?