मौलिक ज्ञान

न्याय और दया क्या हैं ?

'दया' शब्द का अर्थ है-अपराधी को बिना दण्ड दिये छोड़ देना। 'दया' शब्द का यह अर्थ करना बिलकुल गलत है। जिसने जैसा, जितना बुरा कर्म किया हो उसको उतना वैसी ही दण्ड देना न्याय और अपराधी को दण्ड न देने से 'दया का नाश हो जाता है। एक अपराधी को छोड़ देना हज़ारों धर्मात्मा पुरुषों को दुख देने के समान है। जब एक अपराधी के छोड़ने से हज़ारों मनुष्यों को दुख प्राप्त होता है, वह दया किस प्रकार हो सकती है ? अपराधी को कैद कर व मार कर उसे पाप करने से बचाना अपराधी पर दया है। न्याय और दया में नाम मात्र का ही भेद है। मानसिक स्तर पर सबको सुख देने व दुख से छुड़ाने की इच्छा करना दया कहलाती है और बाह्य चेष्टा द्वारा यथायोग्य दण्ड देना न्याय कहलाता है।