मौलिक ज्ञान

उपासना क्या है व योग में इसका क्या स्थान है ?

उपासना

योग अथवा अष्टांग योग के पहले दो अंग–यम और नियम मोटे तौर पर ज्ञान और कर्म के माध्यम से हमारा व्यवहार संवारते हैं। योग के शेष छ: अंग (आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान और समाधि) उपासना पर केन्द्रित हैं। हमारे जीवन की प्रगति के लिए ज्ञान, कर्म व उपासना इन तीनों का सही मिश्रण होना नितान्त आवश्यक है। इन तीनों में से एक का अभाव भी हमारी प्रगति रोक देता है। उपासना का शाब्दिक अर्थ है 'पास बैठना'। सामान्यत: उपासना का अर्थ र्इश्वर की उपासना ही लिया जाता है। जैसे पानी में भीगे कपड़े के रोयें रोयें में पानी व्याप्त होता है। उसी भांति अपनी आत्मा को व्याप्य (जिसमें कोर्इ चीज़ व्याप्त हो) और परमात्मा को व्यापक समझ कर र्इश्वर के गुणों से अपनी आत्मा को सराबोर (पूरा भरना) करना ही र्इश्वर की उपासना है। उपासना आत्मिक बल का एक मात्र स्रोत है। जितना इन र्इश्वरीय गुणों को हमने आत्मसात् किया होगा उतना अधिक हम ज्ञान व कर्म के पथ पर आगे बढ़ पायेंगे। ये तीनों-ज्ञान, कर्म व उपासना हमारे चित्त को निर्मल बना देते हैं जिससे हम, र्इश्वरीय प्रेरणाओं को सुन व समझ पाने में सक्षम हो जाते हैं (प्रत्येक अच्छा कार्य करने के लिए तत्त्पर होने पर हमारे मन में उत्साह और निर्भयता का संचार होता है व प्रत्येक बुरा कार्य करने के लिए तत्त्पर होने पर हमारे मन में लज्जा, भय और शंका का जन्म होता है। निर्भयता, शंका आदि र्इश्वरीय प्रेरणाएं, हम अपने मन के निर्मल होने पर ही सुन पाते हैं।) र्इश्वरीय प्रेरणाओं के अनुरूप कर्म ही हमें मोक्ष (दुखों का अभाव) की ओर ले जाता है।

र्इश्वर के आनन्द स्वरूप में अपनी आत्मा को मग्न करना ही उपासना है।

ध्यान को ही उपासना कहा जाता है।

 

सम्बन्धित सामग्री-

आस्तिक्ता क्या है ?

स्तुति, प्रार्थना, उपासना और पूजा का अर्थ क्या है ?

र्इश्वर की उपासना का तरीका व उसका लाभ क्या है ?

ध्यान क्या है ?